0

खीरा-ककड़ी की खेती करने से पहले जरूर जान लें यह वैज्ञानिक सलाह, होगा फायदा ही फायदा

Share
Avatar photo
  • February 9, 2024

अमित कुमार/समस्तीपुर : अगर आप भी खीरा और ककड़ी की खेती करना चाहते हैं तो इससे पहले यह सलाह जरूर पढ़ लें. इसके बीजों की बुवाई करने का सही समय राजेंद्र कृषि विश्वविद्यालय पूसा के वैज्ञानिक डा. संचिता घोष ने बताया. उन्होंने कहा कि फरवरी एवं मार्च महीने में ही इसकी बुवाई करने के बाद फसल की उपज अच्छी होगी. उन्होंने कहा कि खीरा में अत्यधिक मात्रा में फाइबर, खनिज पदार्थों के अलावे पर्याप्त मात्रा में विटामिन बी भी मौजूद होता है. जो कि स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है.

अभी ही करें इसकी बुवाई
वैज्ञानिक ने बताया कि पूरे देश में खीरा का खासकर सलाद में एक विशेष महत्त्व है. खीरे से कई प्रकार की मिठाइयां भी बनाई जाती है. खीरा ठंढ़ा होता है इसलिए इसे प्रायह लोग औषधि के रूप में प्रयोग करते है. खनिज पदार्थों के अलावा पर्याप्त मात्रा में विटामिन B भी मौजूद होता है. इसका सेवन पोलिया, कब्ज, शरीर की अंदर जलन, प्यास, ज्वर, गर्मी के सारे दोष, पथरी, चर्म रोग, मधुमेह आदि जैसी बीमारियों को रोकने में काफी सहायक है. उन्होंने कहा कि किसान भाइयों को अगर खीरा एवं ककड़ी का खेती करनी है तो उन्हें अभी से ही इसकी बुवाई करनी होगी, ताकि आगात खीरा एवं ककड़ी का उत्पादन होने लगेगा.

किसानों को खेती करने के लिए क्या करना चाहिए
इस विषय पर उन्होंने कहा कि खीरा एवं ककड़ी लगाने के लिए लगभग एक समान मात्रा में उर्वरक का प्रयोग कर सकते हैं. किसान सबसे पहले अच्छी तरह से खेत की जुताई करवा दें. अगर किसान एक बीघा खेत में इस फसल की खेती करना चाहते हैं तो उन्हें 100 से 120 क्विंटल वर्मी कम्पोस्ट या सड़े गोबर की खाद का प्रयोग करें. 2 बोरी यूरिया इसमें से एक तिहाई खेत की अंतिम जुताई के दौरान डाले. दूसरा एक तिहाई खीरा के पौधे में एक महीने बाद डाले, जबकि तीसरा तिहाई का हिस्सा 60 दिनों बाद पौधों में डालें.

तब होगी अच्छी पैदावार
इसके अलावा एसएसपी 125 किलो, एमओपी 40 किलोग्राम और 5 किलोग्राम फ्यूरडॉन अंतिम जुताई के दौरान खेत में डालें. इसके बाद खेतों में 250 सेंटीमीटर चौड़ाई के हिसाब से बेड बनाएं. बेड पर 100 से 150 सेंटीमीटर की दूरी पर पौधे के बीज को लगाएं. खीरे की बुआई के बाद 20 से 25 दिन बाद खेतों में निराई और गुड़ाई का काम करें. तापमान बढ़ने पर हर सप्ताह खीरे के खेत में किसान हल्की हल्की सिंचाई करते रहे. इतना करने के बाद किसानों को अच्छी पैदावार की उम्मीद बनी रहेगी.

Tags: Bihar News, Local18, Samastipur news

#खरककड #क #खत #करन #स #पहल #जरर #जन #ल #यह #वजञनक #सलह #हग #फयद #ह #फयद